वायरलेस तकनीकों में संघटित क्षमता का विकास हो

ctae-workshop

सी.टी.ए.ई में दो दिवसीय संगोष्ठी के अंतिम दिन आई.आई.टी दिल्ली के प्रो. डॉ. एच.एम. गुप्ता, ए.आई.सी.टी. के उपनिदेशक डॉ. आर. एस. राठौड़ तथा राज्य के सबसे पुराने तकनीकी महाविद्यालय एम.बी.एम. जोधपुर के इलेक्ट्रॉनिक्स एवं दूरसंचार विभाग के अध्यक्ष डॉ. राजेश भड़ादा ने अपने अपने शोधपत्रों की प्रस्तुति की।

ctae-workshop-1

डॉ. एच.एम. गुप्ता ने बताया की वायरलेस संचार के दौरान उर्जा संरक्षण के क्षेत्र में आई.आई.टी दिल्ली के द्वारा कई पेटेंट लिए गये हैं। यह तकनीक रक्षा क्षेत्र में अति कारगर है जहाँ रेडियो ट्रांसमीटर तथा रिसीवर में बेट्री लाइफ आती महत्वपूर्ण होती है। श्री राठौड़ ने भारत सरकार की अति महत्वकांक्षी योजना “नेशनल टेलिकॉम पॉली – 2012 (एन.टी.पी.)” के बारे में बताया। उन्होने कहा की भारत में वर्ष 2017 तक 175 मिलियन कनेक्शन तथा 2020 तक 600 मिलियन कनेक्शन का लक्ष्य है, जिनकी न्यूनतम क्षमता 2 एम.बी.पी.एस. तथा अधिकतम क्षमता 100 एम.बी.पी.एस. होगी। इससे सरकार को अपनी शिक्षा, चिकित्सा, बैंकिंग, ई-गवर्नेंस जैसी योजनाओं को सबल मिलेगा। एन.टी.पी. द्वारा भारत सरकार की कई योजनाएँ जैसे ई-पंचायत, मनरेगा, नेशनल नालेज नेटवर्क, आधार, आकाश टेबलेट में परस्पर सामंजस्य बढ़ेगा।

ctae-workshop-2

सी.टी.ए.ई. के इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड कम्यूनिकेशन विभाग तथा संगोष्ठी के अध्यक्ष डॉ. सुनील जोशी ने इस दो दिवसीय कॉन्फ्रेंस को अत्यंत सफल बताया। उन्होने बताया की इस संगोष्ठी में सभी वायरलेस तकनीकों पर शोध पत्रों का वाचन हुआ तथा इन तकनीकों को प्रदर्शित किया गया जिससे भविष्य में वायरलेस भी ग्रीन टेक्नोलॉजी की श्रेणी में आ जाएगा। उन्होने कहा की मोबाइल टावरों की संख्या को या तो कम किया जाए या उनकी क्षमता बढ़ाई जाए वो भी कम उर्जा विकिरणों के साथ, यह सब एम.आई.एम.ओ. जैसी तकनीकों से संभव हो सकता है, जिसमे मोबाइल टावरों तथा हेंड्सेटों, दोनो पर एक से अधिक एंटिना लगे हों।

ctae-workshop-3

डॉ. जोशी ने बताया की इस संगोष्ठी की सभी खोजों का प्रकाशन किया जा चुका है और यह सभी खोजें सरकारी एवं गैर सरकारी वायरलेस सर्विस प्रोवाइडर्स के लिए लाभदायक होगी।
संगोष्ठी की खोजें भारत सरकार की टेलिकॉम पॉलिसी बनाने में महत्वपूर्ण हो सकती है। संगोष्ठी सचिव डॉ. पी.सी. बापना ने देश के सभी कोनो से आए प्रतिभागियों को धन्यवाद प्रेक्षित किया।

To get your News published, contact us at news@udaipurlakecity.com or call us at +91-9636 477 000

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *