Posts

’अस्तित्व’ के दो सशक्त मंचन

play-astitva-by-natyansh-on-womens-day

‘‘- हर छोटी बच्ची को डराया जाता है, उसे हर पल याद दिलाया जाता है कि वो एक लडकी है।
– लड़कियों को हर बात के लिए सिर्फ इसलिए रोकना कि वो एक लड़की है, कहाँ तक सही है?
– हम अगर 10 मिनिट भी लेट हो जाए तो हम पर सवालों कि बारिश हो जाती है।
– हमारे फोन की ऐसे तलाशी होती है जैसे हम अन्तरराष्ट्रीय आतंकवादियों के सम्पर्क में हो।’’ Read more

मन-मरीचिका ने दिखाई प्रोफेसर की विरह वेदना

man-marichika

उदयपुर 04 सितम्बर, विद्याभवन सभागार में बुधवार को मंचित नाटक ‘मन-मरीचिका’ में पत्नि के बिछोह की टीस को सालों तक मन में लिये जीवन व्यतीत करने वाले प्रोफेसर की कथा का मार्मिक और ह्रदय-स्पर्शी चित्रण किया गया। उदयपुर की सांस्कृतिक संस्था नाद्ब्रहम एवं डॉ. मोहन सिंह मेहता मेमोरियल ट्रस्ट के संयुक्त तत्वावधान में रंगकर्मी हेमंत पंड्या ‘दादू’ की स्मृति में आयोजित दो दिवसीय नाट्य समारोह ‘‘रंगाजलि’’ की पहली प्रस्तुति  ‘‘मन-मरीचिका’’ द्वारा शहर के रंगकर्मी राकेश नायक को श्रद्धांजलि दी गयी। Read more

Old World : Love Has No Age Boundations

old-world-play

Old World is a touching story of hope and compassion, with gentle hints of humor, providing that love can blossom in the most unlikely places between two lonely aged people, Dr. Rodion Nikolayevich, the crusty, old director of a sanatorium in Soviet Latvia first meet his difficult patient Lidya Vasilevya, a coquettish, romantic and optimistic but hates being described as patient. Painful pauses betray the emotions driving each of them inexorably towards each other. Read more

‘Old World’ to be played on 4th and 5th

old-world-play-invitation-rehearsal

Bhupesh Kumar Pandya, a name that does not need any introduction, is in Udaipur these days. After taking the workshop in June 12, he has given an opportunity to Artists of Udaipur to work under him in a play ‘Old World’ written by Alexei Arbuzov & translated in hindi by Dr. B. Safadia. Read more

थियेटर के दीर्घानुभवी कलाकार को सलाम : श्री रिज़वान ज़हीर उस्मान

rizwan-zaheer-usmaan

थियेटर हमारे देश में व्यावसायिक सिनेमा का सशक्त पहलू है जो वास्तविकता के बेहद करीब है। आज भी अभिनय के मायने जिस तथ्य पर निर्भर करते हैं, उसका मूल आधार थियेटर ही है। अभिनय के इस प्रारूप का कोई सानी नहीं है। इस देश की धरती पर कई उम्दा थियेटर कलाकारो ने जन्म लिया है। उनका नाटक में होना या नाटक से किसी तरह से जुड़ा होना, थियेटर के चाहने वालो को उत्साह से भर देता है। बात थियेटर में सक्षम भूमिकाएं निभा चुकी हस्तियो की हो या नाटक निर्देशक की, ऐसे लोगो का थियेटर के प्रति मनोरंजन जगत को दिया गया योगदान अविस्मरणीय है। Read more